Advertisement

Bihar Krishi Input Anudan Yojana 2022~ कृषि इनपुट अनुदान योजना क्‍या है जानिए विस्‍तार से

Advertisement

Bihar Krishi Input Anudan Yojana 2022~ कृषि इनपुट अनुदान योजना क्‍या है जानिए विस्‍तार से , कृषि इनपुट अनुदान कब मिलेगा । कृषि इनपुट अनुदान योजना 2022 लिस्‍ट, Bihar Krishi Input Anudan Yojana List 2022, Krishi Input Anudan Yojana 2022 List in Hindi,

Bihar Krishi Input Anudan Yojana in Hindi:- जैसा की आप जानते है की हमारा भारत देश एक कृषि प्रधान (किसानो का देश) है यहा की अधिकतर आबादी खेतीबाड़ी आदि करके अपना गुजार बसर करती है। किन्‍तु कई बार किसान भाई को खेती करने में कई प्रकार की समस्‍याए आती है जैसे तेज आंधी-तूफान, बारी बर्षा, ओलावृष्‍टी, अकाल, बिजली आदि के कारण उनकी फसल में बारी नुकसान होता है। और लघु सीमांत किसानों को ओर भी ज्‍यादा नुकसान होता है उनकी सभी किसान भाइयों की इस परेशानि को देखते हुए हमारी केन्‍द्र सरकार व राज्‍य सरकार कई प्रकार की सरकारी योजनाए (Govt. Scheme) चलाई हुई है। ताकी उनको अनेक प्रकार की सुविधाए व लाभ पहुचा सके। इसी प्रकार बिहार सरकार ने वहा के किसानो की परिस्थिति देखते हुए कृषि इनपुट अनुदान योजना (Krishi Input Anudan Yojana) को शुरू किया है।

Advertisement

जिसके अतंर्गत प्रदेश के उन सभी किसानो को लाभ पहुचाया जाएगा जिनकी फसल प्रकृति आपदा के घटित होने के कारण हुई है। यदि आप भी एक बिहार राज्‍य के किसान है और आपकी फसल प्राकृतिक आपदा के घटित होने के कारण खराब हो चुकी है और आप भी बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई कृषि इनपुट अनुदान योजना का लाभ उठाना चाहते है और इसके बारें में Details (विस्‍तार) से जानना चाहते है तो लेख के साथ अतं तक बने रहे।

कृषि इनपुट अनुदान योजना क्‍या है

कृषि इनपुट क्‍या है, कृषि विभाग,

बिहार सरकार ने राज्‍य के उन किसानो के लिए कृषि इनपुट अनुदान स्‍कीम को लागू किया है जिनकी फसलो का नुकसान प्रकृति द्वारा घटित हुई घटनाओं के कारण हुई है। जैसे- बारी वर्षा का होना, बिजली गिरना, ओलावृष्‍ट्री होना, आंधी व तूफान का आना, अकाल पड़ जाना आदि। इस स्‍कीम के जरिए कृषि की जाे फसल में नुकसान होता है उसकी भरपाई हेतु सहायता राशि प्रदान करती है। इस योजना के तहत अनुदान की राशि स्‍थानीय आपदाओं के तत निर्धारित मापदण्‍ड़ो के आधार पर उपलब्‍ध कराई जाएगी। इनपुट अनुदान योजना के अतंर्गत बिहर के जिन किसानों की फसले प्राकृतिक आपदा के कारण खराब हुई है उनको वर्षाश्रित यानि की असिंचित फसल क्षेत्र के लिएउ 6800/- रूपये प्रति हैक्‍टेयर, सिंचित क्षेत्र के लिए 13500/- रूपये प्रति हैक्‍टेयर तथा औद्योगिक/पेरेनियल फसल क्षति की एवज में 18,000/- रूपये प्रति हैक्‍टेयर के हिसाब से अनुदाय देय होगा। योजना के तहत फसल क्षति के लिए अनुदान की सहायता एक किसान को अधिकतम 2 हेक्‍टेयर के लिए ही प्रदान की जाएगी।

Advertisement

Bihar Krishi Input Anudan Yojana in Hindi

Krishi Input Anudan Yojana | बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना  |  Bihar Krishi Input Anudan Yojana in Hindi
Krishi Input Anudan Yojana
योजना का नाम बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना (Krishi Input Anudan Yojana)
किसने शुरू की बिहार सरकार
लाभार्थी राज्‍य के किसान
उदेश्‍य किसानो को अनुदान राशि देना
कृषि इनपुट अनुदान योजना की ऑफिशियल वेबसाइट https://dbtagriculture.bihar.gov.in/

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना का उदेश्‍य क्‍या है

दरअसल दोस्‍तों किसानो को खेत में फसल पैदा करने के लिए बहुत सी समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है बहुत से किसान कही से ऋण लेकर अपनी फसल पैदा करते है इसके साथ-साथ किसानो को बहुत सारा श्रम करना पड़ता है। परन्‍तु प्राकृतिक आपदाओ के चलते अक्‍सर किसानों की फसले नष्‍ट हो जाती है जिससे वे कर्ज के बोझ के तले दबते जाते है। किसानों की इन परेशानियों के समाधान हेतु सरकार कृषि इनपुट अनुदान योजना Krishi Input Anudan Yojana के तहत मदद करना चाहती है। ताकी किसानों की फसल की भरपाई मिल सके।

कृषि इनपुट अनुदान योजना के फायदे क्‍या है

  • Bihar Krishi Input Anudan Yojana के तहत पूरे राज्‍य में जिन किसानो की खरीफ की फसल प्राकृतिक आपदा घटित होने के कारण हुई है उन्‍हे भरपाई हेतु अनुदान के लिए मुआवजा राशि दी जाती है।
  • राज्‍य के किसानों को असिंचित क्षेत्र के लिए 6800/- रूपये प्रति हैक्‍टेयर, सिंचित क्षेत्र के लिए 13,500/- रूपये प्रति हैक्‍टेयर व औद्याेगिक।पेरेनियल फसल क्षेत्र के लिए 18 हजार रूपये प्रति हैक्‍टेयर में अनुदान का लाभ दिया जाता है।
  • इस लाभाकारी स्‍कीम के जरिए प्रभावित फसल के लिए अनुदान की राशि सीधे किसान लाभार्थी के बैंक अकाउंट में डीबीटी (DBT) के जरिए भेज दी जाती है।
  • Krishi Input Anudan Yojana के तहत प्रति किसान अधिकतम 2 हैक्‍टैयर की भूमि के लिए ही अनुदान प्राप्‍त कर सकता है।
  • इस योजना के जरिए किसानों को फसल क्षेत्र के लिए कम से कम 1000/- रूपये का लाभ देय होगा ज‍बकि औद्यौगिक/पेरेनियल फसल क्षेत्र में न्‍यूनतम 2 हजार रूपय की सहायता राशि दी जाती है।
  • कृषि इनपुट अनुदान स्‍कीम के जरिए जहा कृषि योग्‍य भूमि (बालू व सिल्‍ट भूमि हो) में 3 इंच का जमाव है तो उसे 12,200 रूपये प्रति हैक्‍टेयर के हिसाब से लाभ दिया जाता है।
  • बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना के तहत राज्‍य का एक किसान भाई अपनी अधिकतम दो हेक्‍टेयर पर अनुदान का लाभ प्राप्‍त कर सकता है।

हिमाचल प्रदेश शगुन योजना

नरेगा जॉब कार्ड सूची 2022 में नाम कैसे चेक करे

Advertisement

DBT Agriculture के तहत किस-किस योजना का लाभ मिलता है नई अपडेट 2022

  • बीज की अनुदान राशि
  • कृषि यंत्रीकरण योजना का लाभ
  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई अनुदान योजना का लाभ
  • Diesel Anudan Yojana (डीजल अनुदान योजना) का लाभ
  • प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना का लाभ
  • सूखाग्रस्‍त प्रखंडों के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजना का लाभ
  • बीज अनुज्ञापन सरकार हेतु आवेदन करके बीज अनुदान योजना का लाभ

कृषि इनपुट अनुदान योजना की पात्रता क्‍या है (कृषि अनुदान योजना के जरूरी दस्‍तावेज)

  • लाभार्थी किसान भाई बिहार राज्‍य का स्‍थायी निवसी होना चाहिए
  • Krishi Input Anudan Yojana के तहत लाभ लेने के लिए किसान के पास खेती योग्‍य भूमि आवश्‍य होनी चाहिए
  • इसके अलावा बटाई वाले किसान के पास वास्‍ततिक खेतीहर+स्‍वयं का भू धरी के दस्‍तावेज और स्‍वयं घोषणा पत्र संलग्र करना चाहिए
  • खेती से जुड़े सभी दस्‍तावेज
  • किसान लाभार्थी के पास एलपीसी/जमीन रसीद/वंशावली/जमाबंदी आदि होना चाहिए
  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता
  • मोबाइल नंबर जो की बैंक अकाउंट से लिंक होना चाहिए।
  • पासपोर्ट साइज का फोटो

Krishi Input Anudan Yojana Online Apply (बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना के तहत आवेदन कैसे करें)

  • इस योजना के तहत आवेदन करने हेतु किसान को पहले बिहार राज्‍य सरकार की प्रत्‍यक्ष लाभ अंतरण, कृषि विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा। जिसके बाद आपके सम्‍मुख योजना की वेबसाइट का होम पेज खुलकर आएगा।
  • यहा पर आपको कृषि इनपुट अनुदान (Krishi Input Anudan Yojana) का ऑब्‍शन दिखाई देगा उस पर क्लिक करना है जिसके बाद आपके सामने एक ओर पेज खुलेगा जहा पर आपको किसान की पंजीकरण संख्‍या भरनी होगी और सर्च के ऑब्‍शन पर क्लिक कर देना है।
  • जिसके बाद आपके सामने इस योजना का आवेदन फॉर्म खुलकर आ जाएगा इस फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी को सही-सही भरना होगा।
  • किसान को आवेदन फॉर्म में भूमि की जानकारी भी प्रविष्‍ठ करनी होगी सभी अनिवार्य जानकारियाे को भरने के बाद किसानों को आवेदन फॉर्म में दिए Captcha Code को डालकर Get OTP के ऑब्‍शन पर क्लिक कर देना है।
  • जिसके बाद किसान के रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर पर 4 या 6 अंको का ओटीपी (One Time Password) आएगा जिसे ओटीपी बॉक्‍स में भरना है और अगले स्‍टेप में किसानों को जमन के दस्‍तावेज जैसे- रसीद, जमाबंदी, एलपीसी, अभिप्रमाणित घोषणा पत्र सलंग्‍न करना होगा।
  • और सबसे अतं में आपको फॉर्म में भरे गए विवरणों की जांच करके नीचे सबमिट के बटन पर क्लिक कर देना है। जैसे ही किसान फॉर्म को सबमिट करेगा तो Registered Mobile No पर एक मैसेज आएगा जिसमें आपको पंजीकरण नबंर मिल जाएगे।
  • इसके अलावा यदि किसी किसान भाई से आवेदन करते समय किसी प्रकार की गलती या त्रुटि हो जाती है तो उसे 48 घंटे के भीतर फॉर्म में संशोधन करना होता है।

बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना स्‍टेटस कैसे चैक करें (Krishi Input Anudan Yojana Status in Hindi)

कृषि इनपुट स्‍टेटस चैक, Krishi Input Anudan Yojana कृषि इनपुट अनुदान योजना लिस्‍ट कैसे चैक करें, बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना लिस्‍ट कैसे देखें, कृषि विभाग, बिहार सरकार आवेदन चैक, फसल क्षति अनुदान कैसे ले, कृषि इनपुट का पैसा कब आएगा,

  • किसान को अपने आवेदन फॉर्म की स्थिति चैक करने के लिए पहले बिहार सरकार द्वारा लॉन्‍च किया गया DBT पोर्टल पर जाना होगा। पोर्टल के होम पेज पर आपको आवेदन की स्थिति/आवेदन प्रिंट का विकल्‍प दिखाई देगा।
  • आपको इस पर क्लिक करना होगा जिसके बाद आपके सामने एक ओर पेज खुलकर आएगा जहा पर आपको खुद के Application Number (पंजीकरण संख्‍या) प्रदान करनी होगी।
  • जिसके बाद आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा जिसके बाद आपके सम्‍मुख आवेदन की स्थिति खुलकर आ जाएगी।

साथियो आज के इस लेख में आपको बिहार कृषि इनपुट अनुदान योजना (Krishi Input Anudan Yojana) के बारें में महत्‍वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। जानकारी अच्‍छी लगी तो लाईक करे व अपने मिलने वालो के पास शेयर करें और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमेंट करके जरूर पूछे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *